अजब गजब

DNA जांच में पति-पत्नी निकले जुड़वां भाई-बहन

वाशिंगटन। आज हम आपको एक ऐसी घटना के बारें में बताने को जा रहे है जिसके सम्बन्ध में जानकर आप चौंक जाएंगे। दरअसल, अमेरिका में बच्चे की चाह रखने वाले दंपत्ति के उस समय होश उड़ गए जब DNA जांच में उनके जुड़वां भाई-बहन होने का पता चला। जैक्सन नामक क्लीनिक के डॉक्टर ने बताया कि ये दंपत्ति मिसीसिपी के एक क्लीनिक में इस उम्मीद में पहुंचा था कि वहां उनकी बच्चे की चाह पूरी हो जाएगी।

लेकिन, लैब असिस्टेंट दोनों प्रोफाइलों में काफी समानताएं देखकर हैरान रह गया। उन्होंने कहा, मेरी पहली टिप्पणी ये थी कि दोनों के बीच ज्यादा करीबी संबंध नहीं होंगे, जैसा कि कई बार होता है कि दोनों चचेरे भाई-बहन हो सकते हैं। हालांकि नमूनों का गहराई से निरीक्षण करने के बाद पाया कि दोनों में बहुत ज्यादा समानताएं हैं।

इसके बाद डॉक्टर ने मरीजों की फाइलों को देखा और ये पाया कि दोनों की जन्म की तारीख वर्ष 1984 में एक सी है। उन्होंने कहा, इसको ध्यान में रखते हुए मुझे ये विश्वास हो गया कि दोनों मरीज जुड़वां हैं। हालांकि चिकित्सक को ये मालूम नहीं था कि दंपत्ति इस बात को जानते हैं अथवा इससे बिल्कुल अनजान हैं। अगले अप्वाइंटमेंट में जब डॉक्टर ने उन्हें ये बात बताई तो दोनों को विश्वास नहीं हुआ।

उन्होंने कहा, ये सुनने के बाद पति ने बताया कि कई लोगों ने उनसे कहा था कि दोनों के बीच काफी समानताएं हैं, लेकिन उन्होंने इसे एक संयोग ही माना। चिकित्सक ने कहा, पत्नी लगातार ये कहती रही कि मैं ये स्वीकार करूं कि ये एक मजाक है और मैं भी चाहता था कि ये मजाक ही हो लेकिन उन्हें सच्चाई बतानी थी।

इस मामले में स्त्री और पुरुष दोनों से बात करने के बाद चिकित्सक ये जान पाया कि ये सब कैसे हुआ। चिकित्सक ने कहा, बच्चों के माता-पिता की मौत के बाद दोनों को गोद लिया गया था और दोनों ने एक जैसा ही बचपन गुजारा था और इसलिए उन्हें लगा कि वे दोनों आपस में आसानी से जुड़ सकते हैं। जांच से पता चला कि जब दोनों बच्चे थे तभी सड़क दुर्घटना में उनके पेरेंट्स की मौत हो गई थी।

परिजनों की मौत के बाद कोई परिवार बच्चों को गोद लेने के लिए तैयार नहीं हुआ इसके बाद उन्हें राज्य की देखरेख में भेज दिया गया और वहां से उन्हें 2 अलग-अलग परिवारों को गोद दे दिया गया। लेकिन, उन परिवारों को ये बताया ही नहीं गया कि उस बच्चे का जुड़वां भाई या बहन भी है।

डॉक्टर ने कहा, मैं दिल से ये उम्मीद करता हूं कि वह कोई नतीजा निकाल सकें। मेरे लिए खासतौर पर ये असमान्य मामला है क्योंकि मेरा काम नि:संतान दंपत्ति को बच्चे का सुख दिलाने में सहायता करना है। मेरे करियर में ये पहला मामला है जब मैं उस संबंध में सफलता नहीं प्राप्त करके भी खुश हूं।

डाउनलोड करें Hindi News APP और रहें हर खबर से अपडेट।india News से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Newsview के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

17 − 9 =

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker