घर नहीं पहुंचा लखनऊ पब्लिक स्कूल में पढ़ने वाला कक्षा पांच का छात्र

0
64

साइकिल से स्कूल जाता था अभिनंदन

स्कूल की लापरवाही पर पुलिस दिखी सुस्त

लखीमपुर-खीरी। स्कूल प्रशासन द्वारा बच्चों की सुरक्षा की चूक के कारण हो रही घटनाएं इन दिनों सुर्खियों में है। इसके बावजूद स्कूल प्रबंधन बच्चों की सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम नहीं कर पा रहे है। शहर के एक विद्यालय में एक नया मामला फिर सामने आया है। यहां पर पढ़ने वाले कक्षा पांच का एक विद्यार्थी छुट्टी के बाद अपने घर नहीं पहुंचा है परिवार खौफजदा है और स्कूल प्रबंधन उसके घर जाने के दावे कर रहा है। 

  जानकारी के अनुसार शहर के मोहल्ला ईदगाह/बलदेवनगर निवासी प्रतिष्ठित व्यापारी पप्पू समोसे वाले के पुत्र राजकिशोर का पुत्र अभिनंदन उम्र 11 वर्ष अपने भाई हर्षनंदन उम्र 13 वर्ष के साथ अलग-अलग साइकिलों पर सवार होकर सुबह करीब 7 बजे लखनऊ पब्लिक स्कूल गए थे। हर्ष छुट्टी होने के बाद तो वापस आ गया परंतु अभिनंदन देर शाम तक घर नहीं पहुंचा, तो घर वालों की चिंता बढ़ गई। उन्हांने अभिनंदन के स्कूल पहुंचकर टीचर से बात की, तो टीचर ने बताया कि अभिनंदन अपनी साइकिल से उनके सामने ही अपने घर के लिए निकल लिया था। इसके बाद पिता सहित परिवार के अन्य सदस्यों ने अभिनंदन की तलाश शुरू कर दी। दोस्त-यारों व रिश्तेदारों से फोन से सम्पर्क किया पर खबर लिखे जाने तक अभिनंदन का पता नहीं चल सका था। अभिनंदन की पढ़ाई लखनऊ पब्लिक स्कूल से ही प्रारम्भ हुई थी और वह वर्तमान समय में कक्षा पांच का विद्यार्थी है। अभिनंदन अपनी नीली साइकिल से स्कूल जाता है। 

एलपीएस में ही पढ़ते है चाचा के बच्चें

लखीमपुर-खीरी। लखनऊ पब्लिक स्कूल के विद्याथी का घर न पहुंचना परिवार के लिए चिंता का विषय तो है ही साथ ही अभिनंदन के चाचा भी इस घटना से काफी परेशान है। जहां उनका भतीजा लापता है, तो वहीं उनके तीन छोटे-छोटे बच्चें इसी स्कूल में पढ़ते है। उन्होंने बताया कि स्कूल प्रबंधक सही जानकारी नहीं दे रहा है। बच्चों की छुट्टी करीब एक बजे हो जाती है और वे पांच-दस मिनट में घर भी आ जाते है, अभिनंदन का देर शाम तक घर न पहुंचना, पूरे परिवार के लिए चिंता का विषय बन गया है। 

पुलिस ने निभाई सिर्फ औपचारिकता

लखीमपुर-खीरी। एलपीएस स्कूल में कक्षा पांच के विद्यार्थी अभिनंदन का छुट्टी के बाद देर शाम तक घर न पहुंचना परिवार के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है, तो वहीं ऐसे गंभीर मामले में पुलिस की कार्यशैली फिर विवादों में आई है। चाचा ओमकार के अनुसार वे जब शिकायत करने एलआरपी चैकी पहुंचे तो वहां घटना की जानकारी देने के बाद पुलिस द्वारा न ही अभिनंदन की फोटो मांगी गई और न ही यह जहमत उठाई गई कि पुलिस परिवार के साथ विद्यालय जाकर पूछतांछ करें। मामले पर एसपी खीरी डा. एस चन्नपा ने बताया कि यह मामला बेहद गंभीर है अगर पुलिस अधिकारियों ने सुस्ती बरती है, तो उन पर कार्यवाही की जाएगी। 

डाउनलोड करें Hindi News APP और रहें हर खबर से अपडेट।india News से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Newsview के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

fourteen − one =