राष्ट्रीय

खत्म हो रहा नोटबंदी-GST का असर, ये अकड़ा आया सामने

मोदी सरकार ने 8 नवंबर 2016 को जब नोटबंदी का ऐलान किया तो सबसे पहला बिगड़ने वाला आर्थिक आंकड़ा था केन्द्रीय रिजर्व बैंक का कंज्यूमर कॉन्फिडेंस इंडेक्स. आसान शब्दों में इसे कहा गया कि नोटबंदी ने अर्थव्यवस्था में डिमांड खत्म कर दी. नवंबर 2016 के बाद महीने दर महीने रिजर्व बैंक के आंकड़े गिरी हुई डिमांड दर्शाते रहे. इससे राहत केन्द्रीय बैंक को मई 2017 में मिला जब एक बार फिर कंज्यूमर कॉन्फिडेंस इंडेक्स नोटबंदी के पहले के स्तर पर पहुंचा.

इससे पहले यह आंकड़ा कुछ दिन और सामान्य रहता, केन्द्र सरकार ने जुलाई में गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स लागू कर दिया और कंज्यूमर कॉन्फिडेंस इंडेक्स एक बार फिर सामान्य से नीचे की ओर रुख करने लगा. सामान्य भाषा में कहा गया कि नोटबंदी के बाद जीएसटी ने देश में डिमांड को झटका दिया है लिहाजा दोनों की फैसलों में केन्द्र सरकार की दूर्दर्शिता में कमी देखी गई.

अब रिजर्व बैंक का ताजा कंज्यूमर कॉन्फिडेंस इंडेक्स दिसंबर में फिर सामान्य होने का संकेत दे रहा है. हालांकि रिजर्व बैंक सर्वे के मुताबिक अभी भी देश में कंज्यूमर कॉन्फिडेंस इंडेक्स मई 2017 के स्तर से नीचे है. लेकिन जिस तरह से दिसंबर 2017 के बाद से देश के आर्थिक आंकड़ों से सुधार देखने को मिल रहा है जानकारों का मानना है कि यह साफ संकेत है कि बहुत जल्द देश की अर्थव्यवस्था पर नोटबंदी और जीएसटी की दोहरी मार का असर पूरी तरह से खत्म हो जाएगा.

अर्थव्यवस्था में गतिविधियों में तेज बने रहने का संकेत देते हुये दिसंबर माह में औद्योगिक उत्पादन वृद्धि 7.1 फीसदी रही जबकि इसके विपरीत खाद्य पदार्थेां के दाम में कुछ नरमी आने से खुदरा मुद्रास्फीति का आंकड़ा जनवरी में मामूली घटकर 5.07 फीसदी रहा.

विनिर्माण और पूंजीगत सामानों के क्षेत्र में गतिविधियां अच्छी रहीं जिसकी बदौलत औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) दिसंबर माह में 7.1 फीसदी बढ़ गया. एक साल पहले इसी माह में इसमें 2.4 फीसदी वृद्धि दर्ज की गई थी. हालांकि यदि एक माह पहले यानी नवंबर 2017 में आईआईपी में 8.8 फीसदी की जोरदार वृद्धि हुई थी 

खुदरा मुद्रास्फीति का जनवरी का आंकड़ा खाद्य पदार्थों के दाम कुछ नरम पड़ने से मामूली घटकर 5.07 फीसदी रह गया. इससे पिछले माह दिसंबर 2017 में यह 17 माह के उच्चस्तर 5.21 फीसदी पर पहुंच गया था.

आईआईपी में विनिर्माण क्षेत्र की वृद्धि दर दिसंबर 2016 के मुकाबले दिसंबर 2017 में 8.4 फीसदी रही है. केन्द्रीय साख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) के जारी आंकड़ों के मुताबिक दिसंबर माह में आईआईपी में 7.1 फीसदी की वृद्धि में विनिर्माण क्षेत्र की बढ़ी गतिविधियों का योगदान रहा है.

आईआईपी में विनिर्माण क्षेत्र की 77 फीसदी से अधिक भागीदारी है. अर्थव्यवस्था में निवेश का सूचक माना जाने वाले पूंजीगत सामानों की वृद्धि दिसंबर – 2017 में 16.4 फीसदी रही जो कि एक साल पहले इसी माह में 6.2 फीसदी थी. दिसंबर 2016 में आईआईपी में 2.4 फीसदी वृद्धि रही थी जबकि नवंबर 2017 के आईआईपी वृद्धि का आंकड़ा 8.4 फीसदी से संशोधित होकर 8.8 फीसदी हो गया.

इन नए आंकड़ों पर प्रतिक्रिया में इंडस्ट्री संस्था एसोचैम ने कहा कि आने वाले महीनों के दौरान घरेलू बाजार के नेतृत्व में ही गतिविधियां बढ़ेंगी. अर्थव्यवस्था में गतिविधियां बढ़ने के साथ ही नया निवेश एवं व्यवसाय भी बढ़ेगा. इक्रा की प्रधान अर्थशास्त्री आदिति नायर ने हालांकि कहा कि पूंजीगत सामानों के क्षेत्र में दहाई अंक की हाल की वृद्धि को निवेश गतिविधियों में वृद्धि आने के साथ जोड़ा जाये. लिहाजा, क्या इन आंकड़ों के सहारे कहा जा सकता है कि देश की अर्थव्यवस्था बीते एक साल के दौरान दोहरे झटके से उबरने लगी है अर्थव्यव्स्था के बुरे दिन जल्द खत्म होने वाले हैं?

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close